कोरोनाः कब ख़त्म होगा दिल्ली के अस्पतालों का ऑक्सीजन संकट

Hindi New Delhi

DMT : दिल्ली : (04 मई 2021) : – दिल्ली के अस्पतालों में इमरजेंसी ऑक्सीजन सप्लाई के लिए रविवार रात भर संदेश आते रहे.

उन संदेशों में ये चेतावनी भी थी कि मरीज़ों की जान जोखिम में है.

इस ऑक्सीजन संकट की शुरुआत दो हफ़्ते पहले हुई थी और इसके ख़त्म होने के फिलहाल कोई संकेत नहीं दिख रहे हैं.

शनिवार को दिल्ली के एक बड़े अस्पताल में अचानक ऑक्सीजन ख़त्म हो जाने से कम से कम 12 मरीज़ों की मौत हो गई.

अस्पतालों के बाहर उन मरीज़ों के घरवाले सिलिंडर लिए मुश्किल से खड़ हो पा रहे हैं जिन्हें भीतर बेड नहीं मिल पाया.

कई बार तो उन्हें कतारों में 12-12 घंटे खड़ा होना पड़ रहा है.

दिल्ली के कई बड़े अस्पताल रोज़ मिलने वाली ऑक्सीजन की सप्लाई पर निर्भर कर रहे हैं लेकिन इमर्जेंसी बैक अप के लिए ऑक्सीजन की आपूर्ति ज़रूरत के मुताबिक़ नहीं मिल पा रही है.

एक डॉक्टर ने हालात को बेहद डरावना बताया. उन्होंने कहा, “जब आप एक बार अपना मेन टैंक इस्तेमाल कर लेते हैं, तो फिर सहारे के लिए कुछ नहीं बचता.”

छोटे अस्पतालों की हालत और ज़्यादा ख़राब है क्योंकि उनके पास ऑक्सीजन स्टोर करने के लिए टैंक नहीं होते बल्कि उन्हें बड़े सिलिंडरों का सहारा लेना पड़ता है.

और ये ऑक्सीजन संकट ऐसे समय में हमारे सामने आया है जब देश में कोरोना संक्रममण के मामले सूनामी की तरह बढ़ रहे हैं.

रविवार को सिर्फ़ दिल्ली में कोरोना संक्रमण के 20 हज़ार से ज़्यादा नए मामले रिपोर्ट हुए हैं और 407 लोगों की मौत हो गई.

महामारी की शुरुआत के बाद से इस सप्ताहांत देश में सबसे ज़्यादा संख्या में लोग मरे हैं.

इतना ही नहीं एक दिन में संक्रमण के चार लाख नए मामले दर्ज करने वाला भारत दुनिया का पहला देश बन गया है.

‘हर दिन ज़िंदगी एक नई जंग है’

डॉक्टर गौतम सिंह श्री राम सिंह हॉस्पिटल के संचालक हैं.

उनके अस्पताल में कोविड मरीज़ों के लिए 50 बेड्स हैं और आईसीयू में 16 मरीज़ों के लिए जगह है.

लेकिन उन्हें मरीज़ों को दाखिला देने से इनकार करना पड़ रहा है क्योंकि ऑक्सीजन सप्लाई की कोई गारंटी नहीं है.

पिछले कुछ दिनों में उन्हें ऑक्सीजन के लिए कई लोगों को फोन कॉल करने पड़े ताकि वक़्त रहते दुर्घटना को टाला जा सके.

डॉक्टर गौतम सिंह कहते हैं, “ये एक ऐसी लड़ाई है जो हर रोज़ हम लड़ रहे हैं. मेरे हॉस्पिटल के आधे स्टाफ़ ऑक्सीजन सिलिंडर लेकर सड़कों पर हैं. वे हर रोज़ इन सिलिंडरों को भरने के लिए एक जगह से दूसरी जगह भटक रहे हैं.”

डॉक्टर गौतम की ओर से हाल ही में की गई एक अपील जिसे मैंने ट्वीट किया था.

डॉक्टर गौतम कहते हैं कि उनके अस्पताल में किसी मरीज़ की मौत ऑक्सीजन की कमी के कारण हो सकती है, ये बात उन्हें सोने नहीं देती है.

वो कहते हैं, “मुझे मरीज़ों के इलाज पर ध्यान देना चाहिए. ऑक्सीजन के लिए इधर-उधर भटकना नहीं चाहिए.”

दूसरे कई अस्पतालों की भी यही स्थिति है.

दिल्ली में हॉस्पिटल चलाने वाले एक परिवार की एक महिला ने बताया कि जब इस संकट की शुरुआत हुई थी तब सरकारी महकमों के बीच कोई समन्वय नहीं था.

वो याद करती हैं, “कुछ दिनों तक तो हमें ये पता नहीं लगा कि हम किससे संपर्क करें जिसके पास ये समस्या सुलझाने की शक्ति हो.”

वो कहती हैं कि हालात अब पहले से बेहतर है लेकिन ऑक्सीजन की सप्लाई को लेकर अभी भी अनिश्चितता का माहौल है जिसकी वजह से वे ज़्यादा मरीज़ों को भर्ती नहीं कर पा रहे हैं.

वो कहती हैं, “जब भी कोई हमारे पास आकर ऑक्सीजन बेड के बारे में पूछता है तो ना कहने में मुझे बहुत बुरा लगता है क्योंकि वो हमारे होता नहीं है.”

वैसे अस्पताल जिनके पास स्टोरेज टैंक नहीं हैं, और जो बड़े सिलिंडरों पर निर्भर हैं, उनके यहां से तकरीबन हर रोज़ मदद के संदेश आते हैं.

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने बार-बार ये बात कही है कि शहर को केंद्र सरकार से पर्याप्त मात्रा में ऑक्सीजन की आपूर्ति नहीं मिल रही है.

केंद्र सरकार ही राज्यों को ऑक्सीजन का कोटा आवंटित करती है.

केंद्र सरकार के अधिकारियों का कहना है कि ऑक्सीजन की कोई कमी नहीं है लेकिन चुनौती इसके परिवहन को लेकर है.

दिल्ली हाई कोर्ट ने शनिवार को कहा कि “अब बहुत हो चुका.”

“अब आपको (सरकार) को हर चीज़ का इंतजाम करना है. आपने आवंटन कर दिया है. आपको इसे पूरा भी करना है.”

‘लोग इसकी कीमत चुका रहे हैं’

ज़मीनी हालात अभी भी बहुत गंभीर है.

एक विश्लेषक का कहना था, “केंद्र सरकार और राज्य सरकार के बीच जारी राजनीतिक खींचतान की लोग कीमत चुका रहे हैं. कभी-कभी तो ये कीमत उनकी जान के रूप में होती है.”

जिन परिवारों को अस्पताल में बेड मिल गया है, उनकी सांस भी आफत में है. क्योंकि उन्हें नहीं पता कि ऑक्सीजन की आपूर्ति कब तक जारी रह पाएगी या कब बंद हो जाएगी.

अल्ताफ़ शम्सी के लिए पिछले 48 घंटे बेहद तकलीफ़ भरे रहे. पिछले हफ़्ते उनका पूरा परिवार कोरोना संक्रमित हो गया था.

उनकी गर्भवती पत्नी गंभीर रूप से बीमार थीं. उन्हें अस्पताल में भर्ती कराना पड़ा जहां उन्होंने शुक्रवार को एक बेटी को जन्म दिया.

जचगी के कुछ घंटों के बाद उन्हें वेंटीलेटर पर रखना पड़ा जहां उनकी स्थिति गंभीर बनी रही.

उसी बीच अल्ताफ़ को ये बताया गया कि उनके पिता की एक दूसरे अस्पताल में मौत हो गई.

जिस अस्पताल में अल्ताफ की पत्नी और बेटी आईसीयू में थे, वहां ऑक्सीजन भी बोर्डर लाइन पर था.

उस अस्पताल को आखिरकार एक दिन के लिए इमरजेंसी सप्लाई मिल गई.

लेकिन अल्ताफ को फिक्र इस बात की थी कि ये समस्या फिर सामने आ जाएगी.

वो बताते हैं, “कौन जानता है कि कल क्या होगा?”

ऑक्सीजन की सप्लाई को लेकर चल रही परेशानी के बीच हॉस्पिटल ने उनसे कहा कि वे अपने पत्नी को किसी और अस्पताल ले जाएं क्योंकि उनके पास स्टाफ़ की कमी हो रही थी.

इसका मतलब ये था कि अल्ताफ़ को अब खुद ही पत्नी के ऑक्सीजन लेवल और बुखार पर निगरानी रखनी थी.

वो बताते हैं, “आप अंदाजा भी नहीं लगा सकते हैं कि मैं किस तकलीफ़ से गुजर रहा था.”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *